क्या आप जानते है शनिदेव पर तेल क्यों चढ़ाया जाता है|

नमस्कार दोस्तों आज है शनिवार महाबली शनि देव का बार आप सभी जानते ही हो के भगवन शिव, शनि देव के गुरु हे और शनिदेव को न्याय करने और दण्डित करने की शक्ति भगवन महादेव द्वारा ही प्राप्त हुई थी। शनि देव रंग में काले हैं और वह छाया देवी और भगवान सूर्य देव के पुत्र हैं। शनि देव बेहद उदार भगवान हैं, हालांकि कई लोग उन्हें क्रूर रूप में देखते हैं। वह अपने भाई यमराज की तरह इतने न्यायप्रिय है इसीलिए वह लोगों द्वारा किए गए कार्यों के अनुरूप सही प्रकार के परिणाम प्रदान करते हैं। #dharmashastra Continue reading क्या आप जानते है शनिदेव पर तेल क्यों चढ़ाया जाता है|

तारा देवी मंदिर- शिमला, हिमाचल प्रदेश 171001

माँ तारा देवी शिमला में 250 साल पुराना एक मंदिर है। मंदिर शोघी के पास कालका-शिमला राजमार्ग पर शिमला शहर से करीब 15 किमी दूर स्थित है। ऐसा माना जाता है कि तारा देवी सेन राजवंश की कुल देवी थीं, जो बंगाल के पूर्वी राज्य से आए थे। पौराणिक कथाओं के अनुसार, मंदिर भूपेंद्र सेन ने बनबाया था। जहां तक मंदिर बनाने की बात है तो राजा भूपेंद्र सेन ने मां का मंदिर बनवाया था। Continue reading तारा देवी मंदिर- शिमला, हिमाचल प्रदेश 171001

शिकारी देवी मंदिर- दुनिया में एकमात्र छत रहित मंदिर।

शिकारी देवी मंदिर हिमाचल प्रदेश के जिला मंडी में हिमालय में सिराज घाटी, के पास है, जिसमें देवदार जंगल और सेब बागानों का सुंदर दृश्य है। हिमाचल प्रदेश राज्य में समुद्र तल से 2850 मीटर की ऊंचाई पर शिकारी देवी मंदिर स्थित है। आप पहाड़ी की चोटी पर स्थित शिकारी देवी मंदिर तक पहुंचने के लिए विभिन्न मार्गों के साथ एक सुंदर यात्रा का आनंद ले सकते हैं। Continue reading शिकारी देवी मंदिर- दुनिया में एकमात्र छत रहित मंदिर।

कौन था ​महापंडित लंकाधीश रावण तथा किन कारणों से हुई उस विद्वान की मृत्यु।

रावण हिंदू पौराणिक कथाओं में प्रमुख राक्षसों में से एक है जिन्होंने लोकप्रिय अवतार राम के खिलाफ लड़ाई लड़ी। रावण प्रसिद्ध हिंदू महाकाव्य, रामायण में एक प्रमुख भूमिका निभाते हैं। रावण एक कुशल राजनीतिज्ञ, सेनापति और वास्तुकला का कुशाग्र होने के साथ-साथ तत्व ज्ञानी तथा बहु-विद्याओं के जानकार थे उन्हें मायावी इसलिए कहा जाता था कि वह इंद्रजाल, तंत्र, सम्मोहन और तरह-तरह के जादू का ज्ञान था। उसके पास एक ऐसा विमान था, जो अन्य किसी के पास नहीं था। इस सभी के कारण सभी उससे भयभीत रहते थे। Continue reading कौन था ​महापंडित लंकाधीश रावण तथा किन कारणों से हुई उस विद्वान की मृत्यु।

ऋषि विश्वामित्र क्षत्रिय से ब्राह्मण कैसे बने।

ऋषि विश्वमित्र एक बेहद प्रबुद्ध, ऋषि थे। कौशिकी नदी के किनारे उनका आश्रम हिमालय में था। वास्तव में कौशिकी विश्वमित्र की बड़ी बहन थी जो नदी बन गई। उसके करीब रहने के लिए, उन्होंने नदी के किनारे पर अपना आश्रम स्थापित किया। ऋषि बनने से पहले, विश्वमित्र एक शक्तिशाली राजा थे। वह कुष्नाथ और राजा गथी के पुत्र थे। कुश कबीले में पैदा होने के कारण, उन्हें कौशिक कहा जाता था। Continue reading ऋषि विश्वामित्र क्षत्रिय से ब्राह्मण कैसे बने।

काला जादू एक प्राचीन रहस्यमयी विद्या।क्या यह सच में किसी इंसान की जिंदगी को तहस नहस कर सकता है।

दोस्तों नमस्कार आज हम बात करने जा रहे है काले जादू की क्या यह सच में किसी इंसान की ज़िंदगी को तहस नहस कर सकता है। क्या सच में किसी गुड़िया में सुई चुभो कर किसी व्यक्ति को नुकसान पहुँचाया जा सकता है। आइये तो हम आपको बताते है क्या है काले जादू के भयानक तथ्य। Continue reading काला जादू एक प्राचीन रहस्यमयी विद्या।क्या यह सच में किसी इंसान की जिंदगी को तहस नहस कर सकता है।

महाकाली की पूजा करने से मिलता है मनचाहा वरदान।

प्राचीन काल की बात है,सम्पूर्ण सृष्टी के जलमगन होने के बाद भगवान विष्णु शेषनाग की शय्या पर योगनिद्रा लीन में थे। तभी उसी समय अचानक, भगवान विष्णु के कान से मधु और कैटभ नाम के दो पराक्रमी असुर उत्पन्न हुए। यह दोनों असुर भगवान विष्णु की नाभि से उत्पन्न हुए कमल के फूल के ऊपर विराजमान ब्रह्मा जी को खाने के लिए उन्हें मारने का प्रयास करने लगे। जब ब्रह्माजी ने देखा कि दोनों असुर उन पर आक्रमण कर रहें हैं, तब उन्होंने अपनी रक्षा के लिये आदिशक्ति की स्तुति की और उनसे मदद मांगी । उन दोनों असुरों के वध हेतु माँ आदिसक्ति,फाल्गुन शुक्ला की द्वादशी को माँ महाकाली के रूप में अवतरित हुई। Continue reading महाकाली की पूजा करने से मिलता है मनचाहा वरदान।