ऋषि विश्वामित्र क्षत्रिय से ब्राह्मण कैसे बने।

ऋषि विश्वमित्र एक बेहद प्रबुद्ध, ऋषि थे। कौशिकी नदी के किनारे उनका आश्रम हिमालय में था। वास्तव में कौशिकी विश्वमित्र की बड़ी बहन थी जो नदी बन गई। उसके करीब रहने के लिए, उन्होंने नदी के किनारे पर अपना आश्रम स्थापित किया। ऋषि बनने से पहले, विश्वमित्र एक शक्तिशाली राजा थे। वह कुष्नाथ और राजा गथी के पुत्र थे। कुश कबीले में पैदा होने के कारण, उन्हें कौशिक कहा जाता था। Continue reading ऋषि विश्वामित्र क्षत्रिय से ब्राह्मण कैसे बने।

हिंगलाज माता मंदिर – 51 शक्तिपीठों में से एक जो स्थित है बलूचिस्तान, पाकिस्तान में।

पाकिस्तान के बलूचिस्तान के रेगिस्तान में कराची शहर के लगभग दो सौ किलोमीटर पश्चिम में हिंदू देवी हिंगलाज का मंदिर हैं। हिंगलाज शक्तिपीठ 51 शक्तिपीठों में से एक है। हिन्दू धर्म के पुराणों के अनुसार जहाँ-जहाँ सती के अंग के टुकड़े, धारण किए वस्त्र या आभूषण गिरे, वहाँ-वहाँ शक्तिपीठ अस्तित्व में आये। ये अत्यंत पावन तीर्थस्थान कहलाये। ये तीर्थ पूरे भारतीय उपमहाद्वीप पर फैले हुए हैं। ‘देवीपुराण’ में 51 शक्तिपीठों का वर्णन है। भारत के करोड़ो हिंदुओं के लिए बलूचिस्तान का एक मंदिर श्रद्धा का केंद्र है। Continue reading हिंगलाज माता मंदिर – 51 शक्तिपीठों में से एक जो स्थित है बलूचिस्तान, पाकिस्तान में।

हरिद्वार हिन्दुओं के सात पवित्र स्थलों में से एक।

हरिद्वार  उत्तराखंड के चार धामों के प्रवेश द्वार के रूप में कार्य करता है। हरिद्वार की परिधि के भीतर स्थित ‘पंच तीर्थ’ या पांच तीर्थयात्रा, गंगाद्वारा (हर की पौरी), कुश्वार्ट (घाट), कंकल, बिल्वा तीर्थ (मानसा देवी मंदिर) और नील पर्वत (चंडी देवी) हैं। पौराणिक कथाओ में कहा जाता है कि राजा भागीरथ ने अपने पूर्वजों को मोक्ष प्रदान करने के लिए स्वर्ग से पृथ्वी पर गंगा नदी लाई थी यह भी कहा जाता है कि हरिद्वार को तीन देवताओं की उपस्थिति से पवित्र किया गया था ; ब्रह्मा, विष्णु और महेश। देवता विश्वासियों का मानना है कि हरिद्वार में पवित्र गंगा में डुबकी के बाद वे अपना उद्धार प्राप्त कर सकते हैं। हरिद्वार चार स्थानों में से एक है; जहां हर छह साल बाद अर्ध कुंभ और हर बारह वर्ष बाद कुंभ मेला होता है। Continue reading हरिद्वार हिन्दुओं के सात पवित्र स्थलों में से एक।

काला जादू एक प्राचीन रहस्यमयी विद्या।क्या यह सच में किसी इंसान की जिंदगी को तहस नहस कर सकता है।

दोस्तों नमस्कार आज हम बात करने जा रहे है काले जादू की क्या यह सच में किसी इंसान की ज़िंदगी को तहस नहस कर सकता है। क्या सच में किसी गुड़िया में सुई चुभो कर किसी व्यक्ति को नुकसान पहुँचाया जा सकता है। आइये तो हम आपको बताते है क्या है काले जादू के भयानक तथ्य। Continue reading काला जादू एक प्राचीन रहस्यमयी विद्या।क्या यह सच में किसी इंसान की जिंदगी को तहस नहस कर सकता है।

महाकाली की पूजा करने से मिलता है मनचाहा वरदान।

प्राचीन काल की बात है,सम्पूर्ण सृष्टी के जलमगन होने के बाद भगवान विष्णु शेषनाग की शय्या पर योगनिद्रा लीन में थे। तभी उसी समय अचानक, भगवान विष्णु के कान से मधु और कैटभ नाम के दो पराक्रमी असुर उत्पन्न हुए। यह दोनों असुर भगवान विष्णु की नाभि से उत्पन्न हुए कमल के फूल के ऊपर विराजमान ब्रह्मा जी को खाने के लिए उन्हें मारने का प्रयास करने लगे। जब ब्रह्माजी ने देखा कि दोनों असुर उन पर आक्रमण कर रहें हैं, तब उन्होंने अपनी रक्षा के लिये आदिशक्ति की स्तुति की और उनसे मदद मांगी । उन दोनों असुरों के वध हेतु माँ आदिसक्ति,फाल्गुन शुक्ला की द्वादशी को माँ महाकाली के रूप में अवतरित हुई। Continue reading महाकाली की पूजा करने से मिलता है मनचाहा वरदान।

हे भगवान अघोरी साधुओं की भयानक और रहस्यमय दुनिया।

अघोरी प्रमुख भारतीय परंपराओं में से एक है और तंत्र का सबसे चरम और आकर्षक रूप है। दत्तात्रेय, एक दिव्यात्मा जिसमें त्रिमुर्ती ब्रह्मा, विष्णु और शिव शामिल हैं, को इस सम्प्रदाय का संस्थापक माना जाता है। Continue reading हे भगवान अघोरी साधुओं की भयानक और रहस्यमय दुनिया।

मायोंग गांव की दुर्लभ कहानी। जिसे काले जादू का गढ़ माना जाता है।

भारत में काले जादू का प्रचलन यूं तो सदियों से रहा है। मगर असम का मायोंग गांव ऐसा है जिसे काले जादू का गढ़ माना जाता है। इस गांव का नाम लेने से भी आसपास के गांव वाले डरते हैं। यहां के हर घर में आज भी जादू किया जाता है। मान्यता है कि पूरे विश्व में काले जादू की शुरुआत इसी जगह से हुई थी। Continue reading मायोंग गांव की दुर्लभ कहानी। जिसे काले जादू का गढ़ माना जाता है।