कौन था ​महापंडित लंकाधीश रावण तथा किन कारणों से हुई उस विद्वान की मृत्यु।

रावण हिंदू पौराणिक कथाओं में प्रमुख राक्षसों में से एक है जिन्होंने लोकप्रिय अवतार राम के खिलाफ लड़ाई लड़ी। रावण प्रसिद्ध हिंदू महाकाव्य, रामायण में एक प्रमुख भूमिका निभाते हैं। रावण एक कुशल राजनीतिज्ञ, सेनापति और वास्तुकला का कुशाग्र होने के साथ-साथ तत्व ज्ञानी तथा बहु-विद्याओं के जानकार थे उन्हें मायावी इसलिए कहा जाता था कि वह इंद्रजाल, तंत्र, सम्मोहन और तरह-तरह के जादू का ज्ञान था। उसके पास एक ऐसा विमान था, जो अन्य किसी के पास नहीं था। इस सभी के कारण सभी उससे भयभीत रहते थे। देवताओं के प्रति रावण का अहंकार, और सीता की ओर अनुचित व्यवहार, रावण और राम के बीच एक महाकाव्य युद्ध में समाप्त होने वाली घटनाओं की एक श्रृंखला को गति प्रदान करता है, जो रामायण में वर्णित है। आज, हिंदू अभी भी रामायण की घटनाओं को नाटक और लोअर में याद करते हैं, रावण की खलनाय गतिविधियों को पुनर्जीवित करते हैं, और लोकप्रिय हिंदू मिथक में उनकी मौलिक भूमिका निभाते हैं। हालांकि, रावण एक दुखद व्यक्ति थे जिन्होंने अपनी अनजान यौन इच्छा और उनके साम्राज्यवादी सैन्यवाद के साथ अपना स्वयं का निधन किया। जैसा कि उम्मीद की जा सकती है, वह हिंदू परंपरा में मूलभूत खलनायक के रूप में जाने जाते है। रावण ब्राह्मण पिता और राक्षस माता का पुत्र था। वाल्मीकि रामायण के अनुसार रावण पुलस्त्य मुनि का पोता था अर्थात् उनके पुत्र विश्वश्रवा का पुत्र था। विश्वश्रवा की वरवर्णिनी और कैकसी नामक दो पत्नियां थी। वरवर्णिनी के कुबेर को जन्म देने पर सौतिया डाह वश कैकसी ने अशुभ समय में गर्भ धारण किया। इसी कारण से उसके गर्भ से रावण तथा कुम्भकर्ण जैसे क्रूर स्वभाव वाले भयंकर राक्षस उत्पन्न हुए। ऋषि विश्वश्रवा ने ऋषि भारद्वाज की पुत्री से विवाह किया था जिनसे कुबेर का जन्म हुआ। विश्वश्रवा की दूसरी पत्नी कैकसी से रावण, कुंभकरण, विभीषण और सूर्पणखा पैदा हुई थी। शूर्पणखा का विवाह कालका के पुत्र दानवराज विद्युविह्वा के साथ कर दिया। उसने स्वयं दिति के पुत्र मय की कन्या मन्दोदरी से विवाह किया, जो हेमा नामक अप्सरा के गर्भ से उत्पन्न हुई थी। माना जाता है कि मंदोदरी राजस्थान के जोधपुर के निकट मन्डोर की थी। विरोचनकुमार बलि की पुत्री वज्रज्वला से कुम्भकर्ण का और गन्धर्वराज महात्मा शैलूष की कन्या सरमा से विभीषण का विवाह हुआ। कुछ समय पश्‍चात् मन्दोदरी ने मेघनाद को जन्म दिया, जो इन्द्र को परास्त कर संसार में इन्द्रजीत के नाम से प्रसिद्ध हुआ। माना जाता है कि विजयदशमी के दिन ही भगवान राम ने रावण का वध किया था। मेघनाद के मारे जाने पर रावण स्वयं युद्ध करने रणक्षेत्र में आया। राम और रावण के बीच घमासान युद्ध होने लगा। भगवान राम रावण के सिर काट देते लेकिन तुरंत ही रावण के धड़ पर नया सिर आ जाता। राम इस माया को देखकर हैरान थे। रावण के वध का कोई उपाय न देखकर भगवान राम चिंता में पड़ गए। इस बीच रावण का छोटा भाई विभिषण आकर भगवान राम से कहने लगा कि हे रघुनंदन रावण महायोगी है। इसने अपने योग बल से प्राण को नाभि में स्थिर कर रखा है। आप अपने दिव्य बाण रावण की नाभि में मारिए। इससे आप रावण का वध करने में सफल होंगे। भगवान राम इस रहस्य को जानकर उत्साहित हो गए और नाभि की ओर निशाना साध कर बाण चला दिया। रावण तड़पकर भूमि पर गिर पड़ा, इस तरह भगवान राम रावण का वध करने में सफल हुए।

Advertisements

One thought on “कौन था ​महापंडित लंकाधीश रावण तथा किन कारणों से हुई उस विद्वान की मृत्यु।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.