बृहस्पति की पूजा से मिलते है मनचाहे वरदान। जाने कैसे।

बृहस्पतिवार का व्रत करने और व्रत कथा सुनने से सारी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। इस व्रत से धन संपत्ति की प्राप्ति होती है। जिन्हें संतान नहीं है, उन्हें संतान की प्राप्ति होती है। परिवार में सुख-शांति बढ़ती है। जिन लोगों का विवाह नहीं हो रहा, उनका जल्दी ही विवाह हो जाता है। बुद्धि और शक्ति का वरदान प्राप्त होता है और व्यक्ति के जीवन में बहुत सी सुख समृद्धि आती है। Continue reading बृहस्पति की पूजा से मिलते है मनचाहे वरदान। जाने कैसे।

आरती श्री सूर्य भगवान की।

सूर्यदेव साक्षात् इस ब्रह्मांड में विद्यमान है। रविवार भगवान सूर्य का दिन माना जाता है और इस दिन सूर्य देव की उपासना करने से बहुत अच्छे परिणाम मिलते है। भगवान सूर्य को अर्घ्य देने का विशेष महत्व है। भगवान सूर्य कि कृपा पाने के लिए तांबे के पात्र में लाल चन्दन,लाल पुष्प, अक्षत डालकर प्रसन्न मन से सूर्य मंत्र का जाप करते हुए उन्हें जल अर्पण करना चाहिए। Continue reading आरती श्री सूर्य भगवान की।

क्या आप जानते है शनिदेव पर तेल क्यों चढ़ाया जाता है|

नमस्कार दोस्तों आज है शनिवार महाबली शनि देव का बार आप सभी जानते ही हो के भगवन शिव, शनि देव के गुरु हे और शनिदेव को न्याय करने और दण्डित करने की शक्ति भगवन महादेव द्वारा ही प्राप्त हुई थी। शनि देव रंग में काले हैं और वह छाया देवी और भगवान सूर्य देव के पुत्र हैं। शनि देव बेहद उदार भगवान हैं, हालांकि कई लोग उन्हें क्रूर रूप में देखते हैं। वह अपने भाई यमराज की तरह इतने न्यायप्रिय है इसीलिए वह लोगों द्वारा किए गए कार्यों के अनुरूप सही प्रकार के परिणाम प्रदान करते हैं। #dharmashastra Continue reading क्या आप जानते है शनिदेव पर तेल क्यों चढ़ाया जाता है|

जाखू मन्दिर शिमला- जहां आज भी वानर कर रहें हैं हनुमान जी का इंतजार।

जाखू मंदिर शिमला में सबसे लोकप्रिय मंदिरों में से एक है। यह 8500 फीट की ऊंचाई पर स्थित है और इसकी लंबी हनुमान मूर्ति शहर का एक महत्वपूर्ण स्थलचिह्न है। Continue reading जाखू मन्दिर शिमला- जहां आज भी वानर कर रहें हैं हनुमान जी का इंतजार।

तारा देवी मंदिर- शिमला, हिमाचल प्रदेश 171001

माँ तारा देवी शिमला में 250 साल पुराना एक मंदिर है। मंदिर शोघी के पास कालका-शिमला राजमार्ग पर शिमला शहर से करीब 15 किमी दूर स्थित है। ऐसा माना जाता है कि तारा देवी सेन राजवंश की कुल देवी थीं, जो बंगाल के पूर्वी राज्य से आए थे। पौराणिक कथाओं के अनुसार, मंदिर भूपेंद्र सेन ने बनबाया था। जहां तक मंदिर बनाने की बात है तो राजा भूपेंद्र सेन ने मां का मंदिर बनवाया था। Continue reading तारा देवी मंदिर- शिमला, हिमाचल प्रदेश 171001

भगवान परशुराम -विष्णु का छठा अवतार।

परशुराम शिव के भक्त थे और उसे भगवान शिव से एक वरदान के रूप में एक परशु मिला था , इस प्रकार परशुराम नाम दिया गया था। शिव ने उन्हें युद्ध कौशल भी सिखाया था । एक बच्चे के रूप में परशुराम एक उत्सुक शिक्षार्थी थे और उन्होंने हमेशा अपने पिता ऋषि जमदगनी का पालन किया। परशुराम प्रथम योद्धा ब्राह्मण थे और उन्हें ब्रह्मक्षत्र्य भी कहा जाता है उनकी मां रेणुका देवी क्षत्रिय की बेटी थीं। हिंदू पंचांग के अनुसार वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को भगवान परशुराम की जयंती मनाई जाती है। धर्म ग्रंथों के अनुसार इसी दिन भगवान विष्णु के आवेशावतार परशुराम का जन्म हुआ था। Continue reading भगवान परशुराम -विष्णु का छठा अवतार।

कौन था ​महापंडित लंकाधीश रावण तथा किन कारणों से हुई उस विद्वान की मृत्यु।

रावण हिंदू पौराणिक कथाओं में प्रमुख राक्षसों में से एक है जिन्होंने लोकप्रिय अवतार राम के खिलाफ लड़ाई लड़ी। रावण प्रसिद्ध हिंदू महाकाव्य, रामायण में एक प्रमुख भूमिका निभाते हैं। रावण एक कुशल राजनीतिज्ञ, सेनापति और वास्तुकला का कुशाग्र होने के साथ-साथ तत्व ज्ञानी तथा बहु-विद्याओं के जानकार थे उन्हें मायावी इसलिए कहा जाता था कि वह इंद्रजाल, तंत्र, सम्मोहन और तरह-तरह के जादू का ज्ञान था। उसके पास एक ऐसा विमान था, जो अन्य किसी के पास नहीं था। इस सभी के कारण सभी उससे भयभीत रहते थे। Continue reading कौन था ​महापंडित लंकाधीश रावण तथा किन कारणों से हुई उस विद्वान की मृत्यु।